ABVP's Journey
तस्वीर क्रेडिट पांचजन्य द्वारा

एबीवीपी की यात्रा भारत के युवा नेतृत्व और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक है

आज जब हम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की वर्षगांठ मना रहे हैं, हम न केवल एक संगठन का जश्न मना रहे हैं, बल्कि राष्ट्रवाद और सामाजिक जिम्मेदारी के आदर्शों के प्रति लचीलापन, नेतृत्व और अटूट प्रतिबद्धता की विरासत का जश्न मना रहे हैं।

विश्वविद्यालय परिसरों में साम्यवादी प्रभावों का मुकाबला करने की दृष्टि से 1948 में स्थापित, एबीवीपी भारत के सबसे बड़े और सबसे प्रभावशाली छात्र संगठन के रूप में विकसित हुआ है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सिद्धांतों द्वारा निर्देशित, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद देश भर के लाखों छात्रों के लिए ताकत के स्तंभ के रूप में खड़ा है, उनके दिमाग और भविष्य को आकार देते हुए भारत के सामाजिक-राजनीतिक ताने-बाने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है।

श्री बलराज मधोक और श्री यशवंतराव केलकर जैसे दिग्गजों के नेतृत्व में अपने शुरुआती दिनों से, एबीवीपी ने चुनौतियों और जीत से भरी यात्रा तय की है। इसने 1970 के दशक के दौरान आंदोलनकारी राजनीति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, भ्रष्टाचार से निपटने से लेकर शैक्षिक सुधारों की वकालत करने तक, जनता की आकांक्षाओं के अनुरूप मुद्दों को आगे बढ़ाया।

अपने पूरे इतिहास में, ABVP ने न केवल छात्र चुनावों में सक्रिय रूप से भाग लिया है, बल्कि ऐसे आंदोलनों का भी नेतृत्व किया है, जिन्होंने भारतीय समाज पर अमिट छाप छोड़ी है। चाहे वह आपातकाल के बाद की स्थिति हो या आर्थिक उदारीकरण का दौर, ABVP ने लगातार छात्रों और राष्ट्र के हितों को बरकरार रखा है, अपने सदस्यों के बीच एकता और उद्देश्य की भावना को बढ़ावा दिया है।

आज, जब हम एबीवीपी की यात्रा पर विचार करते हैं, तो हम भविष्य के नेताओं को पोषित करने में इसकी भूमिका को स्वीकार करते हैं, जिन्होंने हमारे राष्ट्र के भाग्य को आकार दिया है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सम्मानित नेताओं सहित भारतीय राजनीति में कई प्रमुख हस्तियों की जड़ें ABVP में हैं, जो इसके स्थायी प्रभाव और विरासत का प्रमाण है।

अन्य छात्र संगठनों से अलग है एबीवीपी

भारत में छात्र राजनीति एक जीवंत और उर्जावान क्षेत्र रहा है। यहाँ विचारधाराएँ पोषित होती हैं, पल्लवित होती है और भविष्य के नेता उभरते हैं। देश के सामाजिक-राजनीतिक परिदृश्य पर कई छात्र संगठन नजर आते हैं। इन सबसे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) निश्चित तौर पर अलग हैं। कॉलेज और विश्वविद्यालय के परिसरों में साम्यवादी प्रभावों का मुकाबला करने की नजर से 1948 में स्थापित  अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भारत के सबसे बड़े छात्र संगठन के रूप में विकसित हुआ है। यह संगठन मुख्य तौर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से संबद्ध है और अपने राष्ट्रवादी रुख के लिए जाना जाता है। अधिकांश लोग इसे बीजेपी का संगठन मानते हैं, जबकि भाजपा की स्थापना 1980 में हुई और आरएसएस भारतीय जनता पार्टी की स्थापना से 31 साल पहले ही अस्तित्व में आ चुका था।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का इतिहास और विकास

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को आधिकारिक तौर पर 9 जुलाई 1949 को पंजीकृत किया गया। यह आरएसएस के एक कार्यकर्ता बलराज मधोक की पहल से प्रेरित था। शुरूआत में विश्वविद्यालयों में बढ़ती साम्यवादी विचारधाराओं के बजाया राष्ट्रवादी प्रतिक्रिया के रूप में एक प्रभावी कल्पना की गई।

एबीवीपी ने 1950 के दशक के अंत में अपने दायरे का श्री यशवंतराव केलकर जी के नेतृत्व में तेजी से विस्तार किया। श्री केलकर को व्यापक रूप से एक प्रमुख वास्तुकार के रूप में स्वीकार किया जाता है। वे श्री केलकर ही थे जिन्होंने ABVP को भारतीय छात्र राजनीति में एक दुर्जेय शक्ति में बदल दिया।

अपने पूरे इतिहास में, ABVP महत्वपूर्ण आंदोलनों और प्रदर्शनों में अपनी मुख्य भूमिका के तौर पर शामिल रहा है। उल्लेखनीय रूप से अगर बात करें तो 1970 के दशक के दौरान अभाविप ने भ्रष्टाचार और सरकारी जड़ता का मुकाबला किया। संगठन विद्यार्थियों का था, लेकिन इसने ऐसे मुद्दों को आगे बढ़ाया जो निम्न मध्यम वर्गों की आकांक्षाओं के अनुरूप थे। उसी युग के बिहार आंदोलन ने इस यात्रा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर स्थापित किया। जिसने गुजरात और बिहार जैसे राज्यों में छात्र कार्यकर्ताओं के बीच अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बढ़ते प्रभाव और सहयोगात्मक प्रयासों को प्रभावी किया।

ऐसे आगे बढ़ा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद

1970 के दशक के मध्य तक परिषद यानि कि एबीवीपी ने 790 परिसरों में 1 लाख 60 हजार सदस्य बना लिए। प्रमुख विश्वविद्यालयों में अपनी पैठ प्रभावी रूप से मजबूत की। यह विकास लगातार बाद के दशकों में जारी रहा। 1990 के दशक में बाबरी मस्जिद विध्वंस और आर्थिक उदारीकरण जैसी सामाजिक-राजनीतिक घटनाओं में परिषद की भूमिकाओं ने आमजन को अहसास कराया कि यह सिर्फ विद्यार्थियों के हितों तक सीमित नहीं, राजनीति तक सिमटा हुआ नहीं बल्कि पूरे देश के लिए समर्पित भाव से काम करने वाला संगठन है। इसके चलते ही 2016 तक करीब 32 लाख सदस्य अभाविप ने बना लिए।

एबीवीपी का वैचारिक आधार और संबद्धता

हालांकि ABVP भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) से स्वतंत्र इकाई है। परन्तु इसके बावजूद आरएसएस से इसका जुड़ाव इसे संघ परिवार, RSS से संबद्ध संगठनों के परिवार के भीतर इसे एक मजबूत स्तंभ के रूप में दृश्यमान रखता है। इस वैचारिक प्रतिबद्धता ने अक्सर ABVP और भाजपा नेताओं के बीच एक साझा मंच भी तैयार किया जो एक दूसरे के हितों को समझते और सपोर्ट करते हैं। आज के माननीय गृहमंत्री श्री अमित शाह और देश के कद्दावर वित्त मंत्री रहे श्री अरुण जेटली जैसे उल्लेखनीय व्यक्ति शामिल हैं, जो अपनी राजनीतिक जड़ें ABVP से जोड़ते हैं। हाल ही में तेलंगाना के मुख्यमंत्री बने श्री रेंवत रेड्डी ताजातरीन उदाहरण है।

छात्र चुनावों और कैंपस सक्रियता में भूमिका

ABVP देश भर के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में छात्र-निकायों के चुनावों में सक्रिय रूप से भाग लेता है। ये चुनाव महत्वपूर्ण राजनीतिक क्षेत्र के रूप में कार्य करते हैं। जहाँ ABVP शैक्षिक सुधारों और समग्र विकास के अपने एजेंडे को स्पष्ट करता है। इन चुनावों में एबीवीपी की लगातार सफलता देश के भीतर छात्र भावना और राजनीतिक गतिशीलता में व्यापक बदलाव को हमारे सामने प्रकट करती है।

सामाजिक रूप से सक्रिय है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद

संगठन की सामाजिक कल्याण के प्रति प्रतिबद्धता “मिशन साहसी” जैसी पहल से सुस्पष्ट होती है। यह लड़कियों के लिए एक आत्मरक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम है। यही नहीं दिल्ली की झुग्गियों में घर-घर जाकर स्क्रीनिंग और टीकाकरण अभियान जैसे व्यापक अभियान और COVID-19 के खिलाफ लड़ाई जैसे महनीय प्रयास अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का प्रभाव और आभा को और भी मजबूत बनाते हैं। कहना गलत नहीं होगा कि एबीवीपी की ऐसी पहल कैंपस की सीमाओं से परे सामाजिक चुनौतियों का समाधान करने में संगठन के सक्रिय दृष्टिकोण को रेखांकित करती हैं।

राष्ट्र के रूप में भारत का विकास दर्शाता है विद्यार्थी परिषद

कुल मिलाकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद यात्रा एक राष्ट्र के रूप में भारत के विकास को दर्शाती है, जो वैचारिक लड़ाई, सामाजिक सुधार और युवा सशक्तिकरण की भावना से आप्लावित है। कम्युनिज्म का मुकाबला करने में अपने गठन से लेकर शैक्षिक नीतियों और सामाजिक कल्याण को आकार देने में अपनी समकालीन भूमिका तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद भविष्य के नेताओं को पोषित करने और राष्ट्रवादी मूल्यों की वकालत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाना जारी रखता है।

ऐसे में जबकि भारत 21वीं सदी की जटिलताओं में उर्जा के साथ खड़ा है। यहां छात्र सक्रियता और सामाजिक-राजनीतिक परिवर्तन के पथप्रदर्शक के रूप में ABVP की विरासत देश के लोकतांत्रिक ताने-बाने का अभिन्न अंग बनी हुई है। इसकी यात्रा भारत के भविष्य की रूपरेखा को आकार देने में छात्र राजनीति के महत्व को रेखांकित करती है। एक ऐसा भविष्य जहाँ राष्ट्रवाद, सामाजिक न्याय और युवा सशक्तिकरण के आदर्श प्रगति और परिवर्तन को आगे बढ़ाने के लिए एक साथ आते हैं।

कहना गलत नहीं होगा कि ABVP न केवल एक संगठन के रूप में बल्कि भारत के युवाओं की स्थायी भावना के प्रमाण के रूप में भी खड़ा है – एक ऐसी भावना जो विचारों और नवाचारों का वैश्विक केंद्र बनने की दिशा में देश के मार्ग को परिभाषित और पुनर्परिभाषित करती रहती है।

विजय और प्रतिकूलता के समय में, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद राष्ट्रवाद, सामाजिक न्याय और समग्र विकास के सिद्धांतों के प्रति अपने समर्पण में दृढ़ है। इसका प्रभाव विश्वविद्यालय परिसरों से कहीं आगे तक यानि कि लोगों के हृदय तक फैला हुआ है। यह लाखों लोगों के जीवन को छू रहा है और युवा भारतीयों की पीढ़ियों को उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने और समाज में सकारात्मक योगदान देने के लिए प्रेरित कर रहा है।

संगठन के स्थापना दिवस पर मैं सीताराम पोसवाल आह्वान करता हूं कि आइए हम उन मूल्यों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करें, जिनके लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद खड़ा है – ईमानदारी, निस्वार्थता और अटूट देशभक्ति। आइए हम उन लोगों के बलिदान का सम्मान करें जिन्होंने वर्षों से अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का नेतृत्व और समर्थन किया है, यह सुनिश्चित करते हुए कि उनकी विरासत हमें एक मजबूत, अधिक समृद्ध भारत के निर्माण में प्रेरित और मार्गदर्शन करती रहे।

वर्षगांठ की शुभकामनाएँ, ABVP! आपकी ज्योति उज्ज्वल रूप से जलती रहे, और अनगिनत युवा भारतीयों के लिए मार्ग को रोशन करे।

सीताराम पोसवाल की कलम से…

Published
Categorized as Blog
Sitaram Poswal Join BJP